BREAKING NEWS
featured

कल्याण-डोंबिवली के 13 नगरसेवकों का पद रद्द , साथ ही शुक्रवार की कोरोना अपडेट



चुनाव आयोग की सिफारिश पर आयुक्त ने लगाई मुहर

8 नगरसेविका और 5 नगरसेवक शामिल

कल्याण (अरविंद मिश्रा)। कल्याण में 13 नगरसेवकों का पद रदद कर दिया गया है। गुरुवार को चुनाव आयोग की सिफारिश पर मनपा आयुक्त डा.विजय सुर्यवंशी ने अपनी मुहर लगा दी है, जिससे 18 गांवों में रहने वाले 13 नगरसेवकों का पद मनपा चुनाव के पहले ही चला गया। 
बतादें कि 11 नवंबर 2020 को कल्याण के नगरसेवकों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, अक्टुबर महीने में कल्याण मनपा का चुनाव प्रस्तावित है. इसलिए चुनाव से पहले सरकार ने 27 गांवों में से 18 गांव को मनपा क्षेत्र से अलग कर उसे स्वतंत्र ‘कल्याण उपनगर नगरपरिषद’ बना दिया है जिसके कारण 13 नगरसेवकों का पद रदद किया गया है, 13 पार्षदों में से 8 महिला नगरसेविकाएं हैं तो 5 पुरूष नगरसेवक हैं।
जिन 13 नगरसेवकों का पद हुआ रद्द हुआ है उनमें 
वार्ड 86, गोलवली-पिसवली,नगरसेविका-सुनीता खंडागले.
वार्ड 105, आशेले-चिंचपाड़ा, नगरसेविका-सोनी अहिरे.
वार्ड 106, नांदिवली, नगरसेविका-उर्मिला गोसावी.
वार्ड 107, पिसवली, नगरसेवक-मोरेश्वर भोईर.
वार्ड 108, आडिवली-ढोकली, नगरसेवक-कुणाल पाटील.
वार्ड 109, गोलवली, नगरसेवक-रमाकांत पाटील.
वार्ड 110, सोनारपाड़ा, नगरसेविका-प्रमिला पाटील.
वार्ड 116, माणगांव, नगरसेविका-दमयंती वझे.
वार्ड 117, उबरोली-भाल दावडी, नगरसेवक-जालिन्दर पाटील.
वार्ड 118, आशेलेगांव-कृष्णनगर, नगरसेविका-इंदिरा तरे.
वार्ड 119, मानेरे-वसार, नगरसेविका विमल भोईर.
वार्ड 120, हेदुटडे-कोले, नगरसेविका-शैलजा भोईर.
वार्ड 122, घेसर-निलजे, नगरसेवक-प्रभाकर जाधव का समावेश है। जिन 13 नगरसेवकों का पद रद्द हुआ है उनमें 5 नगरसेवक भाजपा के है तो वहीं 3 शिवसेना के जबकि बीएसपी और निर्दलीय 1-1 नगरसेवक का समावेश है।

कल्याण-डोंबिवली में कोरोना का आतंक बरकरार

शुक्रवार को मिले 329 नये मरीज, 10 ने तोड़ा दम


कल्याण (अरविंद मिश्रा)। कल्याण-डोंबिवली मनपा (केडीएमसी) की हर संभव कोशिश के बाद भी कोरोना का आतंक मनपा क्षेत्र में बरकरार है. हालांकि मनपा प्रशासन की कोशिशों का कोई भी असर नहीं हो रहा है यह कहना गलत होगा. कोरोना को स्थिर रखने में प्रशासन को जरूर कुछ कामयाबी मिली है, परन्तु सैकड़ों की संख्या में रोजाना कोरोना पॉजिटिव मरीजों का मिलना और मृतकों की संख्या में इजाफा अभी भी लोगों के लिए एक बड़ी टेंशन है। इस बीच लोगों की लापरवाही भी कोरोना के बरकरार रहने के पीछे की मुख्य वजह मानी जा सकती है. लोकडाउन से राहत मिलने के बाद अधिकांश लोग कोरोना के खतरे को नजरअंदाज कर अपने स्वास्थ्य से खिलवाड़ करते भी साफ नजर आ जाते हैं जो कि एक गंभीर चिन्ता का कारण है। 
बहरहाल, केडीएमसी क्षेत्र में शुक्रवार को भी कोरोना ने कुल 329 लोगों को अपनी चपेट में लिया है और इसी के साथ अब तक कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 19,967 तक जा पहुच चुकी है, इनमें 5770 मरीजो का उपचार चल रहा है तो वही 13,840 मरीज डिस्चार्ज हो चुके है. वही शुक्रवार को 10 लोगो की मौत हो गयी इस आंकड़े के बाद मरने वालों की संख्या बढ़कर 357 हो गयी है। इस बीच एक राहत भरी खबर यह रही कि 336 मरीज पिछले 24 घंटे के भीतर विभिन्न अस्पतालों व कोरंटाइन सेंटर से स्वस्थ होकर डिसचार्ज भी हुए है। केडीएमसी क्षेत्र के कल्याण पूर्व में 66, कल्याण पश्चिम में 65, डोंबिवली पूर्व में 107, डोंबिवली पश्चिम में 59, मांडा टिटवाला में 9, पिसवली में 3 तथा मोहना में 20 लोग कोरोना संक्रमित पाये गये है। 
मनपा क्षेत्र में कोरोना के प्रभाव को लगातार कम करने को प्रयासरत केडीएमसी प्रशासन ने 2 अगस्त को कल्याण विभाग के 1-अ, 4-जे व 5-ड, प्रभाग क्षेत्र में सुबह 7 से दोपहर 2 बजे तक तथा 1-अ प्रभाग क्षेत्र के मांडा टिटवाला व डोंबिवली पश्चिम के 7-ह प्रभाग क्षेत्र में दोपहर 3 से 10 बजे तक सोडियम हायपोक्लोराईड का छिड़काव करने की एक बड़ी मुहिम की तैयारी कर ली है।

मालमत्ता कर भरने में लोगों को छूट

कोरोना के आतंक से परेशान अपने क्षेत्र के लोगों को एक बड़ी राहत देते हुए कल्याण डोंबिवली मनपा (केडीएमसी) प्रशासन ने मालमत्ता कर यानी प्रापर्टी टैक्स भरने में एक महिने की छूट दी है। केडीएमसी प्रशासन ने प्रापर्टी टैक्स भरने की अवधि में बढ़ोत्तरी करते हुए इसे 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है इसके अलावा टैक्स में 5 प्रतिशत छूट भी दी गयी है. हालांकि छूट के साथ मनपा प्रशासन के टैक्स विभाग ने यह भी साफ कर दिया है कि जो व्यक्ति 31 अगस्त तक टैक्स नही भरेगा उसको 2 प्रतिशत ब्याज देना पड़ेगा! अब नागरिकों के सामने सबसे बड़ी समस्या यह बन गयी है कि कोरोना और लोकडाउन के कारण जहां कई लोग बेरोजगार हो गये हैं तो दुकानदार, व्यापारी कारोबार में सुस्ती का शिकार हो रहे हैं. ऐसी विकट स्थिति में जहां लोगों को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी जिने के लिए आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे विपरित समय में वे एक महिने में कैसे अपना हाऊस टैक्स भरें और टैक्स नहीं भरने पर ब्याज का दंड! आर्थिक तंगी का सामना कर रहे लोगों का मानना है कि मनपा सिर्फ लोगो को सहयोग देने का दिखावा कर रही है, असल में जनता की समस्याओं से प्रशासन को कुछ लेना-देना नही है मनपा की इस दोहरी नीति से जनता में उसके प्रति आक्रोश फैला हुआ है!

« PREV
NEXT »

कोई टिप्पणी नहीं

Facebook Comments APPID